377+ Best Radha Krishna Shayari In Hindi | राधा कृष्ण पर शायरी

यदि प्रेम का मतलब सिर्फ पा लेना होता !!
तो हर हृदय में राधा-कृष्ण का नाम नही होता !!

radha krishna quotes,
radha krishna love quotes,
radha krishna status in hindi,
radha krishna thought,
radha krishna caption,
radhe krishna quotes,
sad radhe krishna,
romantic radha krishna images,
radha quotes,
radha krishna ke status,
shree radhe krishna status,
radhe krishna quotes in hindi,
radha krishna lines,
radha krishna bhakti quotes in hindi,
radha krishna love,
cute krishna images,
krishna sad quotes,
romantic radha krishna love,

अधुरा हैं मेरा इश्क तेरे नाम के बिना !!
जैसे अधूरी हैं राधा श्याम के बिना !!

प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं !!
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं !!

राधा की कृपा, कृष्णा की कृपा, जिस पर हो जाए !!
भगवान को पाए, मौज उड़ाए, सब सुख पाए !!

राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आएंगे !!
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे !!

सावन की बारिश और भादों की बहार !!
नन्द के लाला को हमारा बार-बार नमस्कार !!

सांवरे तेरी मोहब्बत को, नया अंजाम देने की तैयारी हैं !!
कल तक मीरा दीवानी थी, आज मेरी बारी हैं !!

प्यार में ना जाने कितनी बाधा देखी !!
फिर भी कृष्ण के साथ हरदम राधा देखी !!
वो राधा की तरह है साथ मेरे !!
ख़यालों में वो मेरी रुक्मणी है !!

श्याम तेरे मिलने का सत्संग ही बहाना है !!
दुनिया वाले क्या जाने ये रिश्ता पुराना है !!

पल एक नहीं लगता है गगरी को आधा होने में !!
कि बिगड़ जाती हैं बातें भी अक्सर ज़्यादा होने में !!

प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं !!
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं !!

राम सीता कृष्ण राधा सच यही !!
प्रेम बाक़ी जो सुना था झूठ है !!

Radha Krishna Shayari In Hindi

मधुवन में भले ही कान्हा किसी गोपी से मिले !!
मन में तो राधा के ही प्रेम के फूल खिले !!

प्यार में कैसी थकन कह के ये घर से निकली !!
कृष्ण की खोज में वृषभानु-लली मीलों तक !!

कान्हा को राधा ने प्यार का पैगाम लिखा !!
पुरे खत में सिर्फ कान्हा कान्हा नाम लिखा !!

देखू मेरे माधव की आँखे, या करूँ आँखे चार !!
दर पर उसके शीश नमाऊं या निहारु वारंवार !!

राधे राधे बोल, श्याम भागे…
किसी के पास ego है किसी के पास attitude है !!
मेरे पास तो मेरा साँवरा है वो भी बड़ा cute !!

पाने को ही प्रेम कहे जग की ये है रीत !!
प्रेम का अर्थ समझायेगी राधा-कृष्णा की प्रीत !!

मन की आँखों को जब तेरा दीदार हो जाता है !!
मेरा तो हर दिन प्रिय मोहन त्यौहार हो जाता है !!

एक तरफ साँवले कृष्ण, दूसरी तरफ राधिका गोरी !!
जैसे एक-दूसरे से मिल गए हों चाँद-चकोरी !!

श्री राधा जहाँ-जहां श्री कृष्ण वहाँ-वहाँ है !!
जो हृदय में बस जाएँ वो बिछड़ता कहाँ है !!

कृष्ण की प्रेम बाँसुरिया सुन भई वो प्रेम दिवानी !!
जब-जब कान्हा मुरली बजाएँ दौड़ी आये राधा रानी !!

“राधा” के सच्चे प्रेम का यह ईनाम हैं !!
कान्हा से पहले लोग “राधा” का लेते नाम हैं !!

कान्हा हरदम मेरे साथ है फिर क्या कमी है !!
विरह में नहीं, प्रेम की वजह से आखों में नमी है !!

श्याम की बंसी जब भी बजी है !!
राधा के मन में प्रीत जगी है !!

यदि प्रेम का मतलब सिर्फ पा लेना होता !!
तो हर हृदय में राधा-कृष्ण का नाम नही होता !!

प्यार मे कितनी बाधा देखी !!
फिर भी कृष्ण के साथ राधा देखी !!

संसार के लोगो की आशा न किया करना !!
जब भी मन विचलित हो तो राधा-कृष्ण नाम लिया करना !!

बाजार के रंगो में रंगने की मुझे जरुरत नही !!
मेरे कान्हा की याद आते ही !!
ये चेहरा गुलाबी हो जाता है !!

इसे भी पढ़े :- Best Business Shayari in Hindi | बिज़नस शायरी

राधा कृष्ण पर शायरी

प्रभु खोजने से नहीं मिलते !!
उसमें “खो – जाने” से मिलते है !!
!! जय श्री कृष्णा !!

ग़जब की मोहब्बत है वो !!
जिसमे साथ रहने की कोई उम्मीद ना हो !!
फिर भी प्यार बेशुमार हो !!
ख़्वाहिश बस इतनी सी !!
चाहिए एक छोटा सा पल !!
और साथ सिर्फ तुम सिर्फ तुम !!

जीवन भावनाओं से चलता है !!
पर हम भावनाओं में भी !!
कारणों को ढूंढने की कोशिश करते हैं !!

कन्हैया बस तेरी रहमत पर नाज करते है !!
इन आंखो को जब तेरा दीदार हो जाता है !!
मेरा तो हर दिन सांवरे त्योहार हो जाता है !!

मुझे रिश्तों की लम्बी कतारों से क्या मतलब !!
कोई दिल से हो मेरा !!
तो एक कृष्ण ही काफ़ी हैं !!

दे के दर्शन कर दो पूरी प्रभु मेरे मन की तृष्णा !!
कब तक तेरी राह निहारूं !!
अब तो आओ कृष्णा !!

प्यार दो आत्माओं का मिलन होता हैं !!
ठीक वैसे हीं जैसे प्यार में कृष्ण का नाम !!
राधा और राधा का नाम कृष्ण होता हैं !!

बड़ा मीठा नशा है कृष्ण की याद का !!
वक्त गुजरता गया और हम आदि होते गए !!
जय राधे कृष्णा !!

प्रभु खोजने से नहीं मिलते !!
उसमें “खो – जाने” से मिलते है !!
!! जय श्री कृष्णा !!

बाजार के रंगो में रंगने की मुझे जरुरत नही !!
मेरे कान्हा की याद आते ही !!
ये चेहरा गुलाबी हो जाता है !!

एक तरफ साँवले कृष्ण !!
दूसरी तरफ राधिका गोरी !!
जैसे एक-दूसरे से मिल गए हों चाँद-चकोरी !!

इसे भी पढ़े :- Best Gf Shayari in Hindi 2 Line | रोमांटिक शायरी फॉर गर्लफ्रैंड

Radha Krishna Shayari

बड़ा मीठा नशा है कृष्ण की याद का !!
वक्त गुजरात गया और हम आदि होते गए !!
जय श्री कृष्णा !!

मंज़िले मुझे छोड़ गयी, रास्ते ने पाल लिया है !!
जा ज़िंदगी तेरी ज़रूरत !!
नहीं मुझे ठाकुर ने संभाल लिया है !!

अजीब नशा है, अजीब खुमारी है !!
हमे कोई रोग नहीं बस !!
जय श्री राधे कृष्णा, राधे कृष्णा बोलने बीमारी है !!

तुम क्या मिले की साँवरे !!
मेरा मुकद्दर सवंर गया !!
उजड़े हुए नसीब का गुलशन निखर गया !!

गज़ब के चोर हो कान्हा !!
चोरी भी करते हो !!
और दिलो पर राज़ भी !!
भाव बिना बाज़ार मै वस्तु मिले न मोल !!
तो भाव बिना “हरी“ कैसे मिले !!
जो है अनमोल !!

कोई प्यार करे तो राधा-कृष्ण की तरह करे !!
जो एक बार मिले, तो फिर कभी बिछड़े हीं नहीं !!
मेरे राधा कृष्णा !!

अभी तो बस इश्क़ हुआ है !!
कान्हा से मंजिल तो वृंदावन में ही मिलेगी !!
राधे राधे !!

अजीब नशा है, अजीब खुमारी है !!
हमे कोई रोग नहीं बस !!
जय श्री राधे कृष्णा, राधे कृष्णा बोलने की बीमारी है !!

गज़ब के चोर हो कान्हा !!
चोरी भी करते हो, और !!
दिलो पर राज़ भी !!

भाव बिना बाज़ार मै वस्तु मिले न मोल !!
तो भाव बिना “हरी “ कैसे मिले !!
जो है अनमोल !!

प्रभु खोजने से नहीं मिलते !!
उसमें “खो – जाने” से मिलते है !!
राधेकृष्णा जय श्री कृष्णा !!

कोई प्यार करे तो राधा-कृष्ण की तरह करे !!
जो एक बार मिले, तो फिर कभी बिछड़े हीं नहीं !!
मेरे राधा कृष्णा !!

इसे भी पढ़े :- Happy Diwali Status In Hindi | हैप्पी दिवाली स्टेटस

Radha krishna quotes

एक तरफ साँवले कृष्ण !!
दूसरी तरफ राधिका गोरी !!
जैसे एक-दूसरे से मिल गए हों चाँद-चकोरी !!

ए जन्नत अपनी औकात में रहना !!
हम तेरी जन्नत के मोहताज नही !!
हम श्री बांकेबिहारी के चरणों में रहते है !!
वहां तेरी भी कोई औकात नही !!

नन्दलाल की मोहनी सूरत दिल में बसा रखे हैं !!
अपने जीवन को उन्ही की भक्ति में लगा रखे हैं !!
एक बार बाँसुरी की मधुर तान सुनादे कान्हा !!
हम एक छोटी सी आस लगा रखे हैं !!

बांके बिहारी का नाम लो सहारा मिलेगा !!
ये जीवन न तुमको दुबारा मिलेगा !!
डूब रही अगर कश्ती मझधार में !!
कृष्णा के नाम से सहारा मिलेगा !!

कृष्णा कन्हैया बंसी बजैया पार लगा दो हमारी नैया !!
दुविधा में हैं हमारा जीवन कर दो निर्मल पावन ये मन !!
तेरे ही चरणों में हमने किया है अब तो खुद का समर्पण !!
तू ही तो है अब तो बस इस डूबती नैया का खेवैया !!

प्रेम से कृष्णा का नाम जपो !!
दिल की हर इच्छा पूरी होगी !!
कृष्ण आराधना में इतना लीन हो जाओ
उनकी महिमा, जीवन खुशहाल कर देगी !!

फूलो में सज रहे है श्री वृंदावन बिहारी !!
और साथ सज रही है वृषभानु की दुलारी !!
टेड़ा सा मुकुट रखा है कैसे सर पर !!
करुणा बरस रही है करुणा भरी निगाह से !!
बिन मोल बीक गयी हु जबसे छबि निहारी !!
फूंलों मे सज रहे है श्री वृंदावन बिहारी !!
सुनो कान्हा तुम !!
Five Star की तरह दिखते हो !!
Munch की तरह शरमाते हो !!
Cadbury की तरह जब तुम मुस्कुराते हो !!
Kit Kat की कसम !!
तूम बहुत सुंदर नजर आते हो !!

पलकें झुकें और नमन हो जाए !!
मस्तक झुके और बंदन हो जाए !!
ऐसी नजर कहाँ से लाऊँ मेरे कान्हा !!
कि आपको याद करूँ और दर्शन हो जाए !!

कितना भी धन-दौलत पा लो !!
पर भूख नहीं मिटटी तृष्णा की !!
उसको जीवन का सारा धन मिल जाता है !!
जो भक्ति करें राधा के कृष्णा की !!

सुनो कान्हा !!
जिस पल कोई आस न हो !!
उस पल भी तुझसे आस बाकि हो !!
मुझमे तेरी एक साँस बाकि हो !!

गाय का माखन, यशोधा का दुलार !!
ब्रह्माण्ड के सितारे कन्हैया का श्रृंगार !!
सावन की बारिश और भादों की बहार !!
नन्द के लाला को हमारा बार-बार नमस्कार !!

इसे भी पढ़े :- Best Khafa Shayari in Hindi | खफा शायरी इन हिंदी

Radha krishna love quotes

हर शाम किसी के लिए सुहानी नही होती !!
हर प्यार के पीछे कोई कहानी नही होती !!
कुछ तो असर होता हैं दो आत्मा के मेल का !!
वरना गोरी राधा, सावले कान्हा की दीवानी ना होती !!

राधा कहती है दुनियावालों से !!
तुम्हारे और मेरे प्यार में बस इतना अंतर है !!
प्यार में पड़कर तुमने अपना सबकुछ खो दिया !!
और मैंने खुद को खोकर सबकुछ पा लिया !!

मेरे दिल को बना कर ” Teddy ” !!
अपने दिल से लगा लो ना तुम !!
मेरे श्याम !!
रख लो महफूज यादो की माफिक !!
दिल से मुझे अपना लो ना तुम !!

दिल तुमसे लगा बैठे है !!
प्रेम की राह पर सपने सजाएं बैठे है !!
हर किसी ने तोड़े है सपने हमारे !!
एक तू ही है कन्हैया जिससे हर उम्मीद लगाए बैठे है !!

हे कान्हा, तुम संग बीते वक़्त का !!
मैं कोई हिसाब नहीं रखती !!
मैं बस लम्हे जीती हूँ !!
इसके आगे कोई ख्वाब नहीं रखती !!

दीवाने है तेरे नाम के इस बात से इंकार नहीं !!
कैसे कहें कि तुमसे प्यार नहीं !!
कुछ तो कसूर है आपकी आँखों का कन्हैया !!
हम अकेले तो गुनाहगार नहीं !!

पाने को ही प्रेम कहे !!
जग की ये है रीत !!
प्रेम का सही अर्थ समझायेगी !!
राधा-कृष्णा की प्रीत !!
बहुत खूबसूरत है मेरे ख्यालों की दुनिया !!
बस कृष्ण से शुरू और कृष्ण पर ही खत्म !!

राधा के हृदय में श्याम !!
राधा की साँसों में श्याम !!
राधा में ही हैं श्याम !!
इसीलिए दुनिया कहती हैं !!
बोलो श्याम श्याम श्याम !!

कृष्णा के कदमो पे कदम बढाते चलो !!
अब मुरली नही तो सीटी बजाते चलो !!
राधा तो घर वाले दिलाएंगे ही !!
मगर तब तक गोपियाँ पटाते चलो !!

पता नहीं कैसे परखता है !!
मेरा कृष्ण मुझे !!
इम्तेहान भी मुश्किल ही लेता है !!
और फेल भी होने नहीं देता !!
उन्होंने नस देखि हमारी और बीमार लिख दिया !!
रोग हमने पूछा तो वृंदावन से प्यार लिख दिया !!
कर्जदार रहेगे उम्र भर हम उस वैद के जिसने दवा में !!
“श्री राधे कृष्ण” नाम लिख दिया !!

संघर्ष के समय को !!
नजदीक नहीं आता और !!
सफलता के बाद किसी !!
को आमंत्रित नहीं करना पड़ता !!

सुन्दर से भी अधिक सुंदर है तु !!
लोग तो पत्थर पूजते है !!
मेरी तो पूजा है तु !!
पूछे जो मुझसे कौन है तु !!
हँसकर कहता हुँ !!
जिंदगी हुँ मैं और साँस है तु !!

राधा के सच्चे प्रेम का यह ईनाम है !!
कान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम है !!
रंग बदलती दूनियाँ देखी देखा जग व्यवहार !!
दिल टूटा तब मन को भाया ठाकुर तेरा दरबार राधे राधे !!

मेरे दिल की दीवारों पर श्याम तुम्हारी छवि हो !!
मेरे नैनो की पलकों में कान्हा तस्वीर तेरी हो !!
बस और न मांगू तुझसे मेरे गिरधर !!
तुझे हर पल देखू मेरे कन्हैया ऐसी तकदीर हो !!

तेरे सीने से लग कर तेरी धङकन बन जाऊँ !!
तेरी साँसो मेँ घुल कर खुशबू बन जाऊँ !!
हो न फासला कोई हम दोनो के दरम्याँ !!
मैँ, मैँ न रहुँ साँवरे बस तुँ ही तुँ बन जाऊँ !!

राधा मुरली-तान सुनावें !!
छीनि लियो मुरली कान्हा से !!
कान्हा मंद-मंद मुस्कावें !!
राधा ने धुन, प्रेम की छेड़ी !!
कृष्ण को तान पे,नाच नचावें !!
जय श्री राधेकृष्णा !!

चारों तरफ फैल रही हैं !!
इनके प्यार की खुशबू थोड़ी-थोड़ी !!
कितनी प्यारी लग रही हैं !!
साँवरे-गोरी की यह जोड़ी !!

प्यार सबको आजमाता हैं !!
सोलह हज़ार एक सौ आठ !!
रानियों से मिलने वाला श्याम !!
एक राधा को तरस जाता हैं !!

मुझको मालूम नहीं अगला जन्म हैं की नहीं !!
ये जन्म प्यार में गुजरे ये दुआ मांगी हैं !!
और कुछ मुझे जमाने से मिले या ना मिले !!
ए मेरे कान्हा तेरी मोहब्बत ही सदा मांगी हैं !!

हर पल आंखों में पानी हैं !!
क्योंकि चाहत में रुहानी हैं !!
मैं हूँ तुझसे, तू हैं मुझसे !!
अपनी बस यही कहानी हैं !!

पीर लिखो तो मीरा जैसी !!
मिलन लिखो कुछ राधा सा !!
दोनों ही है कुछ पूरे से !!
दोनों में ही वो कुछ आधा सा !!
जय श्री कृष्णा !!

ए जन्नत अपनी औकात में रहना !!
हम तेरी जन्नत के मोहताज नही !!
हम श्री बांकेबिहारी के चरणों में रहते है !!
वहां तेरी भी कोई औकात नही

जिस पर राधा को मान हैं !!
जिस पर राधा को गुमान हैं !!
यह वही कृष्ण हैं जो राधा !!
के दिल हर जगह विराजमान हैं !!

Radha krishna status in hindi

वो दिन कभी न आए !!
हद से ज्यादा गरूर हो जाये !!
बस इतना झुका कर रखना !!
“मेरे कन्हैया” !!
की हर दिल दुआ देने को मजबूर हो जाये !!
रख लूँ नजर मे चेहरा तेरा !!
दिन रात इसी पे मरती रहूँ !!
जब तक ये सांसे चलती रहे !!
मे तुझसे मोहब्बत करती रहूँ !!
मेरे कान्हा मेरी दुनिया !!

सुध-बुध खो रही राधा रानी !!
इंतजार अब सहा न जाएँ !!
कोई कह दो सावरे से !!
वो जल्दी राधा के पास आएँ !!

उन्होंने नस देखि हमारी और बीमार लिख दिया !!
रोग हमने पूछा तो वृंदावन से प्यार लिख दिया !!
कर्जदार रहेगे उम्र भर हम उस वैद के जिसने दवा में !!
“श्री राधे कृष्ण” नाम लिख दिया !!

सुन्दर से भी अधिक सुंदर है तु !!
लोग तो पत्थर पूजते है !!
मेरी तो पूजा है तु !!
पूछे जो मुझसे कौन है तु !!
हँसकर कहता हुँ !!
जिंदगी हुँ मैं और साँस है तु !!

राधा के दिल की चाहत है कृष्ण !!
राधा की विरासत है कृष्णा !!
कितने भी रास रचा ले कृष्णा !!
फिर भी दुनिया कहेगी राधेकृष्णा !!

मेरे दिल की दीवारों पर श्याम तुम्हारी छवि हो !!
मेरे नैनो की पलकों में कान्हा तस्वीर तेरी हो !!
बस और न मांगू तुझसे मेरे गिरधर !!
तुझे हर पल देखू मेरे कन्हैया ऐसी तकदीर हो !!

तेरे सीने से लग कर तेरी धङकन बन जाऊँ !!
तेरी साँसो मेँ घुल कर खुशबू बन जाऊँ !!
हो न फासला कोई हम दोनो के दरम्याँ !!
मैँ, मैँ न रहुँ साँवरे, बस तुँ ही तुँ बन जाऊँ !!

हम भी तेरी मोहनी मूरत दिल में छिपाये बैठे है !!
तेरी सुन्दर सी छवि आँखों में बसाये बैठे है !!
इक बार बांसुरी की मधुर तान सुनादे कान्हा !!
हम भी एक छोटी सी आस जगाये बैठे है !!

जहाँ बेचैन को चैन मिले वो घर तेरा वृन्दावन है !!
जहां आत्मा को परमात्मा मिले वो दर तेरा वृन्दावन है !!
मेरी रूह तो प्यासी थी, प्यासी है तेरे लिए सावरिया !!
जहां इस रूह को जन्नत मिले वो स्थान ही मेरा श्री वृन्दावन है !!

सुनो कान्हा तुम !!
Five Star की तरह दिखते हो !!
Munch की तरह शरमाते हो !!
Cadbury की तरह जब तुम मुस्कुराते हो !!
Kit Kat की कसम !!
तूम बहुत सुंदर नजर आते हो !!

जानते हो फिर भी अंजान बनते हों !!
इस तरह क्यों हमें परेशान करते हों !!
पुछते हो तुम्हें क्या क्या पंसद है !!
जबाब खुद हो फिर भी सवाल करते हों !!

पीर लिखो तो मीरा जैसी !!
मिलन लिखो कुछ राधा सा !!
दोनों ही है कुछ पूरे से !!
दोनों में ही वो कुछ आधा सा !!
जय श्री कृष्णा !!

हे बांके बिहारी !!
नही रही कोई और हसरत इक तेरे दिदार के सिवा !!
गौ़रतलब ये है मेरे नूर-ऐ-हरि !!
अब हर तमन्ना ने मुझसे किनारा कर लिया !!
राधे राधे जय श्री कृष्णा !!

मेरे दिल को बना कर ” Teddy ” !!
अपने दिल से लगा लो ना तुम !!
मेरे श्याम !!
रख लो महफूज यादो की माफिक !!
दिल से मुझे अपना लो ना तुम !!

Radha krishna thought

वृंदावन की हवा !!
जरा अपना रुख हमारी तरफ भी मोड दे !!
इस वीरान दिल मे राधा नाम की मस्ती छोड दे !!
उड़ जाये माया की मिट्टी और दीदार हो सांवरे का !!
ऐसी प्रीत हमारी राधा नाम से जोड़ दे !!
जय श्री राधे !!

फूलो में सज रहे है श्री वृंदावन बिहारी !!
और साथ सज रही है वृषभानु की दुलारी !!
टेड़ा सा मुकुट रखा है कैसे सर पर !!
करुणा बरस रही है करुणा भरी निगाह से !!
बिन मोल बीक गयी हु जबसे छबि निहारी !!
फूंलों मे सज रहे है श्री वृंदावन बिहारी !!
कर भरोसा राधे नाम का !!
धोखा कभी न खायेगा !!
हर मौके पर कृष्णा !!
तेरे घर सबसे पहले आयेगा !!
जय श्री राधेकृष्णा !!

प्रेम से कृष्णा का नाम जपो !!
दिल की हर इच्छा पूरी होगी !!
कृष्ण आराधना में इतना लीन हो जाओ !!
उनकी महिमा, जीवन खुशहाल कर देगी !!

राधा मुरली-तान सुनावें !!
छीनि लियो मुरली कान्हा से !!
कान्हा मंद-मंद मुस्कावें !!
राधा ने धुन, प्रेम की छेड़ी !!
कृष्ण को तान पे,नाच नचावें !!
जय श्री राधेकृष्णा !!

माखन चुराकर जिसने खाया !!
बंसी बजाकर जिसने नचाया !!
ख़ुशी मनाओ उनके जन्म दिन की !!
जिन्होंने दुनिया को प्रेम का रास्ता दिखाया !!

राधा की चाहत है कृष्ण !!
उसके दिल की विरासत है कृष्ण !!
चाहे कितना भी रास रचा ले कृष्ण !!
दुनिया तो फिर भी यही कहती है !!
राधे कृष्ण राधे कृष्ण !!

किसी की सूरत बदल गई !!
किसी की नियत बदल गई !!
जब से तूने पकड़ा मेरा हाथ !!
“राधे” मेरी तो किस्मत ही बदल गई !!

राधा कहती है दुनियावालों से !!
तुम्हारे और मेरे प्यार में बस इतना अंतर है !!
प्यार में पड़कर तुमने अपना सबकुछ खो दिया !!
और मैंने खुद को खोकर सबकुछ पा लिया !!

मुरली मनोहर कृष्ण कन्हैया !!
जमुना के तट पे विराजे हैं !!
मोर मुकुट पर कानों में कुंडल !!
कर में मुरलिया साजे हैं !!

किसी के पास Ego है !!
किसी के पास attitude है !!
मेरे पास तो मेरा साँवरा है !!
वो भी बड़ा cute हैं !!

एक तेरे ख्वाबो का शोक !!
एक तेरी याद की आदत !!
तू ही बता साँवरे !!
सोकर तेरा दीदार करूँ या जाग कर तुझे याद !!

गाय का माखन, यशोधा का दुलार !!
ब्रह्माण्ड के सितारे कन्हैया का श्रृंगार !!
सावन की बारिश और भादों की बहार !!
नन्द के लाला को हमारा बार-बार नमस्कार !!

मटकी तोड़े, माखन खाए !!
फिर भी सबके मन को भाये !!
राधा के वो प्यारे मोहन !!
महिमा उनकी दुनिया गाये !!

तुम्हारी “चाहत” की !!
“हद” हो सकती है मगर !!
“दिल” की बात बताता हू !!
मै “बेहद” तुम्हे चाहता हू !!
राधे कृष्णा हरे कृष्णा !!

सांवरे तेरी मोहब्बत को !!
नया अंजाम देने की तैयारी हैं !!
कल तक मीरा दीवानी थी !!
आज मेरी बारी हैं !!

माना कि मुझमे मीरा सी कोई कशिश नही !!
गोपी के जैसे रो सकू वो जज्बात नही !!
एकबार मेरे साँवरे इस दिल की भी सुनो !!
मेरे राधा कृष्णा मुरारी !!
हे मन !!
तू अब कोई तप कर ले !!
एक पल में सौ-सौ बार !!
कृष्ण नाम का जप कर ले !!
जय श्री राधे-कृष्णा !!

Radha krishna caption

दे के दर्शन कर दो पूरी !!
प्रभु मेरे मन की तृष्णा !!
कब तक तेरी राह निहारूं !!
अब तो आओ कृष्णा !!

गोकुल में जो करें निवास !!
गोपियों संग जो रचाएँ रास !!
देवकी-यशोदा हैं जिनकी मैया !!
ऐसे ही हमारे कृष्ण कन्हैया !!

डूबे ना वो नैया !!
चाहे तूफान आए या सुनामी !!
जिसकी नांव का मांझी !!
खुद है “शीश का दानी” !!
जय श्री श्याम !!

प्यार दो आत्माओं का मिलन होता है !!
ठीक वैसे हीं जैसे !!
प्यार में कृष्ण का नाम राधा !!
और राधा का नाम कृष्ण होता है !!

मत रख अपने दिल में !!
इतनी नफरते ऐ इंसान !!
जिस दिल में नफ़रत हो !!
उस दिल में मेरा श्याम नहीं रहता !!

क्या नींद क्या ख्वाब !!
आँखे बन्द करू तो — तेरा चेहरा !!
और आंख खोलू तो — तेरा ख्याल !!
मेरे कान्हा !!

रूप बड़ा प्यारा है !!
चेहरा बड़ा निराला है !!
बड़ी से बड़ी मुसीबत को !!
कन्हैया ने पल भर में हल कर डाला है !!

बड़ी आस ले कर आया !!
बरसाने में तुम्हारे कर दो क्षमा !!
किशोरी जी अपराध मेरे सारे !!
सवारू में भी अपना जीवन !!
श्री राधा नाम जपते जपते !!
प्रेम से बोलो श्री राधे !!

राधा के हृदय में श्री कृष्ण !!
राधा की साँसों में श्री कृष्ण !!
राधा में ही हैं श्री कृष्ण !!
इसीलिए दुनिया कहती हैं !!
राधे-कृष्ण राधे-कृष्ण !!

राधा-राधा जपने से !!
हो जाएगा तेरा उद्धार !!
क्योंकि यही वो नाम है !!
जिससे कृष्ण को प्यार !!

मेरे प्यारे सांवरिया !!
तेरी फूल सी फितरत, मेरा काटेंदार वजूद !!
तो क्यों ना मिलकर हम गुलाब हो जाएं !!
राधे राधे !!

वाह रे मेरे साँवरे !!
तुँ और तेरा इश्क !!
जो तुझे जान ले !!
तुँ उसी की जान ले !!
राधे राधे !!

जन्माष्टमी के इस अवसर पर !!
हम ये कामना करते हैं !!
कि श्री कृष्ण की कृपा आप पर !!
और आपके पूरे परिवार पर हमेशा बनी रहे !!

माखन चोर नन्द किशोर !!
बांधी जिसने प्रीत की डोर !!
हरे कृष्ण हरे मुरारी !!
पुजती जिन्हें दुनिया सारी !!
आओ उनके गुण गाएं सब !!
मिल के जन्माष्टमी मनाये !!
गोकुल में जिसने किया निवास !!
उसने गोपियों के संग रचा इतिहास !!
देवकी-यशोदा जिनकी मैया !!
ऐसे है हमारे कृष्ण कन्हैया !!

बांके बिहारी का नाम लो सहारा मिलेगा !!
ये जीवन न तुमको दुबारा मिलेगा !!
डूब रही अगर कश्ती मझधार में !!
कृष्णा के नाम से सहारा मिलेगा !!

छोड़ा सबका दामन हठयोग में तुम्हारे !!
मेरी साँसे उखड़ रही वियोग में तुम्हारे !!
लौट आओ मोहन किस बात पे अड़े हो !!
मूर्त बनकर बस मंदिर में क्यों खड़े हो !!

हे बांके बिहारी !!
नही रही कोई और हसरत इक तेरे दिदार के सिवा !!
गौ़रतलब ये है मेरे नूर-ऐ-हरि !!
अब हर तमन्ना ने मुझसे किनारा कर लिया !!
राधे राधे जय श्री कृष्णा !!

मटकी तोड़े, माखन खाए !!
फिर भी सबके मन को भाये !!
राधा के वो प्यारे मोहन !!
महिमा उनकी दुनिया गाये !!

पीर लिखो तो मीरा जैसी !!
मिलन लिखो कुछ राधा सा !!
दोनों ही है कुछ पूरे से !!
दोनों में ही वो कुछ आधा सा !!
जय श्री कृष्णा !!

मेरे कान्हा !!
जानते हो फिर भी अंजान बनते हों !!
इस तरह क्यों हमें परेशान करते हों !!
पुछते हो तुम्हें क्या क्या पंसद है !!
जबाब खुद हो फिर भी सवाल करते हों !!
राधे राधे जय श्री राधे कृष्णा !!

वो दिन कभी न आए !!
हद से ज्यादा गरूर हो जाये !!
बस इतना झुका कर रखना !!
“मेरे कन्हैया” की हर दिल !!
दुआ देने को मजबूर हो जाये !!

कैसे लफ्जो मे बयां करूँ !!
खूबसुरती तुम्हारी !!
सुंदरता का झरना भी !!
तुम हो मोहब्बत का दरिया भी !!
तुम हो मेरे श्याम !!

राधा मुरली-तान सुनावें !!
छीनि लियो मुरली कान्हा से !!
कान्हा मंद-मंद मुस्कावें !!
राधा ने धुन,प्रेम की छेड़ी !!
कृष्ण को तान पे,नाच नचावें !!

मुरली मनोहर कृष्ण कन्हैया !!
जमुना के तट पे विराजे हैं !!
मोर मुकुट पर कानों में कुंडल !!
कर में मुरलिया साजे हैं !!

तुम्हारी “चाहत” की !!
“हद” हो सकती है मगर !!
“दिल” की बात बताता हू !!
मै “बेहद” तुम्हे चाहता हू !!
राधे कृष्णा हरे कृष्णा !!

कर भरोसा राधे नाम का !!
धोखा कभी न खायेगा !!
हर मौके पर कृष्ण !!
तेरे घर सबसे पहले आयेगा !!
जय श्री राधेकृष्ण !!

राधा कहती है दुनियावालों से !!
तुम्हारे और मेरे प्यार में बस इतना अंतर है !!
प्यार में पड़कर तुमने अपना सबकुछ खो दिया !!
और मैंने खुद को खोकर सबकुछ पा लिया !!

क्या नींद क्या ख्वाब !!
आँखे बन्द करू तो !!
तेरा चेहरा आंख खोलू !!
तो तेरा ख्याल मेरे कान्हा !!
हे मन, तू अब कोई तप कर ले !!
एक पल में सौ-सौ बार !!
कृष्ण नाम का जप कर ले !!

प्यार दो आत्माओं का मिलन होता है !!
ठीक वैसे हीं जैसे !!
प्यार में कृष्ण का नाम राधा !!
और राधा का नाम कृष्ण होता है !!

सुन्दर से भी अधिक सुंदर है तु !!
लोग तो पत्थर पूजते है, मेरी तो पूजा है तु !!
पूछे जो मुझसे कौन है तु !!
हँसकर कहता हुँ, जिंदगी हुँ में और साँस है तु !!

माना कि मुझमे मीरा सी कोई कशिश नही !!
गोपी के जैसे रो सकू वो जज्बात नही !!
एकबार मेरे साँवरे इस दिल की भी सुनो !!
मेरे राधा कृष्णा मुरारी !!

Rate this post

Leave a Comment